Notice: Use of undefined constant JQUERYCOLORBOX_TEXTDOMAIN - assumed 'JQUERYCOLORBOX_TEXTDOMAIN' in /home/a7ac68e4/public_html/sites/bharatswabhimancg.in/wp-content/plugins/jquery-colorbox/jquery-colorbox.php on line 34

Notice: wp_enqueue_script was called incorrectly. Scripts and styles should not be registered or enqueued until the wp_enqueue_scripts, admin_enqueue_scripts, or init hooks. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 3.3.) in /home/a7ac68e4/public_html/sites/bharatswabhimancg.in/wp-includes/functions.php on line 3587

Notice: wp_enqueue_style was called incorrectly. Scripts and styles should not be registered or enqueued until the wp_enqueue_scripts, admin_enqueue_scripts, or init hooks. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 3.3.) in /home/a7ac68e4/public_html/sites/bharatswabhimancg.in/wp-includes/functions.php on line 3587

Notice: Undefined variable: control_ops in /home/a7ac68e4/public_html/sites/bharatswabhimancg.in/wp-content/plugins/all_posts/all_posts.php on line 20

Notice: Undefined variable: control_ops in /home/a7ac68e4/public_html/sites/bharatswabhimancg.in/wp-content/plugins/multi-image/multi-image.php on line 32

Notice: Undefined variable: control_ops in /home/a7ac68e4/public_html/sites/bharatswabhimancg.in/wp-content/plugins/sidebar-audio/sidebar-audio.php on line 25

Notice: Undefined variable: control_ops in /home/a7ac68e4/public_html/sites/bharatswabhimancg.in/wp-content/plugins/single_img/single_img.php on line 25
उठो, जागो व् लक्ष्य को प्राप्त होने तक न ठहरो ! स्वामी विवेकानंद | Bharat Swabhiman Neyas, Chhattisgarh
Notice: Undefined index: HTTPS in /home/a7ac68e4/public_html/sites/bharatswabhimancg.in/wp-content/plugins/slideshow-gallery-pro/slideshow-gallery-plugin.php on line 242

उठो, जागो व् लक्ष्य को प्राप्त होने तक न ठहरो ! स्वामी विवेकानंद

उठो, जागो व् लक्ष्य को प्राप्त होने तक न ठहरो ! स्वामी विवेकानंद जी  १२ जनवरी को विश्व में वेदांत की शिक्षाओं को प्रसारित करने वाले स्वामी विवेकानंद की जयंती युवा दिवस के अवसर पर उहे शत-शत नमन| हमें स्वामी विवेकानद इ से सीख लेकर हमारे देश भारत को फिर से विश्व गुरु , विश्व शक्ति , सोने की सिहनी बना है |

भारत स्वाभिमान न्यास छत्तीसगढ़

स्वामी विवेकानंद जी की जीवन  परिचय

जन्म तिथि 12 जनवरी 1863
जन्म स्थान कोलकाता, पश्चिम बंगाल, भारत
जन्म नरेंद्रनाथ दत्त
मृत्यु तिथि 4 जुलाई 1902 (39वर्ष )
मृत्यु स्थान बैलूर मठ निकट कोलकाता
गुरु/शिक्षक रामकृष्ण परमहंस
कथन Arise, awake; and stop not till the goal is reached.[१]

स्वामी विवेकानन्द (१२ जनवरी १८६३- ४ जुलाई १९०२) वेदान्त के विख्यात और प्रभावशाली आध्यात्मिक गुरु थे। उनका वास्तविक नाम नरेन्द्र नाथ दत्त था। उन्होंने अमेरिका स्थित शिकागो नगर में सन् १८९३ में आयोजित विश्व धर्म महासम्मेलन में सनातन धर्म का प्रतिनिधित्व किया था। भारत का वेदान्त अमेरिका और यूरोप के हर एक देश में स्वामी विवेकानंद की वक्तृता के कारण ही पँहुचा। उन्होंने रामकृष्ण मिशन की स्थापना की थी जो आज भी अपना काम कर रहा है। वे रामकृष्ण परमहंस के सुयोग्य शिष्य थे। रामकृष्ण जी बचपन से ही एक पहुँचे हुए सिद्ध पुरुष थे। स्वामीजी ने कहा था की जो व्यक्ति पवित्र रुप से जीवन निर्वाह करता है उसके लिए अच्छी एकग्रता हासिल करना सम्भव है!

जीवन वृत्त

विवेकानंदजी का जन्म १२ जनवरी सन्‌ १८६३ को हुआ। उनका घर का नाम नरेंद्र दत्त था। उनके पिता श्री विश्वनाथ दत्त पाश्चात्य सभ्यता में विश्वास रखते थे। वे अपने पुत्र नरेंद्र को भी अंगरेजी पढ़ाकर पाश्चात्य सभ्यता के ढंग पर ही चलाना चाहते थे। नरेंद्र की बुद्धि बचपन से बड़ी तीव्र थी और परमात्मा को पाने की लालसा भी प्रबल थी। इस हेतु वे पहले ब्रह्म समाज में गए किंतु वहाँ उनके चित्त को संतोष नहीं हुआ।

सन्‌ १८८४ में श्री विश्वनाथ दत्त की मृत्यु हो गई। घर का भार नरेंद्र पर पड़ा। घर की दशा बहुत खराब थी। कुशल यही थी कि नरेंद्र का विवाह नहीं हुआ था। अत्यंत गरीबी में भी नरेंद्र बड़े अतिथि-सेवी थे। स्वयं भूखे रहकर अतिथि को भोजन कराते, स्वयं बाहर वर्षा में रातभर भीगते-ठिठुरते पड़े रहते और अतिथि को अपने बिस्तर पर सुला देते।

गुरु भेंट

रामकृष्ण परमहंस की प्रशंसा सुनकर नरेंद्र उनके पास पहले तो तर्क करने के विचार से ही गए थे किंतु परमहंसजी ने देखते ही पहचान लिया कि ये तो वही शिष्य है जिसका उन्हें कई दिनों से इंतजार है। परमहंसजी की कृपा से इनको आत्म-साक्षात्कार हुआ फलस्वरूप नरेंद्र परमहंसजी के शिष्यों में प्रमुख हो गए। संन्यास लेने के बाद इनका नाम विवेकानंद हुआ।

स्वामी विवेकानन्द अपना जीवन अपने गुरुदेव स्वामी रामकृष्ण परमहंस को समर्पित कर चुके थे। गुरुदेव के शरीर-त्याग के दिनों में अपने घर और कुटुम्ब की नाजुक हालत की परवाह किए बिना, स्वयं के भोजन की परवाह किए बिना गुरु सेवा में सतत हाजिर रहे। गुरुदेव का शरीर अत्यंत रुग्ण हो गया था। कैंसर के कारण गले में से थूंक, रक्त, कफ आदि निकलता था। इन सबकी सफाई वे खूब ध्यान से करते थे। वे सदा उनका आदर सत्कार करते थे। वे हमेशा उनसे ग्यान पाने कि लाल्सा रख्ते थे।

निष्ठा

एक बार किसी ने गुरुदेव की सेवा में घृणा और लापरवाही दिखाई तथा घृणा से नाक भौंहें सिकोड़ीं। यह देखकर विवेकानन्द को गुस्सा आ गया। उस गुरुभाई को पाठ पढ़ाते हुए और गुरुदेव की प्रत्येक वस्तु के प्रति प्रेम दर्शाते हुए उनके बिस्तर के पास रक्त, कफ आदि से भरी थूकदानी उठाकर फेकते थे। गुरु के प्रति ऐसी अनन्य भक्ति और निष्ठा के प्रताप से ही वे अपने गुरु के शरीर और उनके दिव्यतम आदर्शों की उत्तम सेवा कर सके। गुरुदेव को वे समझ सके, स्वयं के अस्तित्व को गुरुदेव के स्वरूप में विलीन कर सके। समग्र विश्व में भारत के अमूल्य आध्यात्मिक खजाने की महक फैला सके। उनके इस महान व्यक्तित्व की नींव में थी ऐसी

यात्राएं

25 वर्ष की अवस्था में नरेंद्र दत्त ने गेरुआ वस्त्र पहन लिए। तत्पश्चात उन्होंने पैदल ही पूरे भारतवर्ष की यात्रा की।सन्‌ 1893 में शिकागो (अमेरिका) में विश्व धर्म परिषद् हो रही थी। स्वामी विवेकानंदजी उसमें भारत के प्रतिनिधि के रूप से पहुँचे। योरप-अमेरिका के लोग उस समय पराधीन भारतवासियों को बहुत हीन दृष्टि से देखते थे। वहाँ लोगों ने बहुत प्रयत्न किया कि स्वामी विवेकानंद को सर्वधर्म परिषद् में बोलने का समय ही न मिले। एक अमेरिकन प्रोफेसर के प्रयास से उन्हें थोड़ा समय मिला किंतु उनके विचार सुनकर सभी विद्वान चकित हो गए। फिर तो अमेरिका में उनका बहुत स्वागत हुआ। वहाँ इनके भक्तों का एक बड़ा समुदाय हो गया। तीन वर्ष तक वे अमेरिका रहे और वहाँ के लोगों को भारतीय तत्वज्ञान की अद्भुत ज्योति प्रदान करते रहे। उनकी वक्ततृत्व शैली तथा ज्ञान को देखते हुये वहाँ के मीडिया ने उन्हें साइक्लॉनिक हिन्दू का नाम दिया।  अध्यात्म-विद्या और भारतीय दर्शन के बिना विश्व अनाथ हो जाएगा’ यह स्वामी विवेकानंदजी का दृढ़ विश्वास था। अमेरिका में उन्होंने रामकृष्ण मिशन की अनेक शाखाएँ स्थापित कीं। अनेक अमेरिकन विद्वानों ने उनका शिष्यत्व ग्रहण किया। 4 जुलाई सन्‌ 1902 को उन्होंने देह त्याग किया। वे सदा अपने को गरीबों का सेवक कहते थे। भारत के गौरव को देश-देशांतरों में उज्ज्वल करने का उन्होंने सदा प्रयत्न किया। जब भि वो वह जते थे तो लोग उन्से बहुत खउस होते थे

दिनांक: January 11, 2011   श्रेणी: अन्य
Divider

Notice: Theme without comments.php is deprecated since version 3.0 with no alternative available. Please include a comments.php template in your theme. in /home/a7ac68e4/public_html/sites/bharatswabhimancg.in/wp-includes/functions.php on line 3509

Comments are closed.